Google+ Badge

शुक्रवार, 25 जनवरी 2013

जाते कहाँ हैं प्रश्न ?

प्रश्न  यह  कि  आख़िर
जाते  कहाँ  हैं  प्रश्न ?

जहाँ-जहाँ  से  गुज़रता  है  वह
पांवों  के  नीचे
कुचले  जाते  प्रश्न
चीख़  कर  उछलते  हैं
और  उसकी  जेब  में  जा  बैठते  हैं !

तुम्हें  उत्तर  चाहिए ?

तो  प्रश्नों  के  पीछे
मज़बूती  से खड़े  रहना  सीखो।

                                             ( 1985 )

                                 -सुरेश  स्वप्निल 

* अब तक अप्रकाशित/अप्रसारित रचना।

कोई टिप्पणी नहीं: